Swatantrata diwas par shayari

Welcome to Royalsayari! Get ready to dive into a world of emotions and patriotism as India gears up to celebrate its 77th Independence Day. Our website is your gateway to a captivating collection of shayari dedicated to this special occasion. From heartfelt “स्वतंत्रता दिवस पर शायरी” to soul-stirring “देश भक्ति शायरी,” we’ve curated it all just for you. Join us in honoring the spirit of freedom and expressing gratitude to our nation’s heroes. Let words ignite your love for the country as we present our exclusive Independence Day Shayari for 2023.

देश भक्ति शायरी

 

1.Azadi ki baatien hum phir se yaad karein,
Dil se desh ki veerta ko hum sab salaam karein,
Har rang har roshni, sab rangon mein hai pyaar,
Azadi ke geet hum saath gaaye, saare jahan se acha yaar.

2.Dharti par leharaye tiranga, har taraf josh hai bhara,
Azaadi ki chamak mein chamakta hai asmaan saara,
Dil mein umeed, sapno mein desh ka aakaar,
Har deshwasi ho ek saath, yahi hai hamara pyaar.

3.Lahoo ki bauchar, khushiyon ka jhoomar,
Azadi ke parv par saari duniya ko yaadgar hai yeh ghadiyan yaar,
Desh bhakti ka junoon, har dil mein beh raha hai,
Azadi ke is tyohar ko hum sab milkar manate hain bade izzat se pyaar.

4.Azadi ka safar, laga tha mushkilon se bhara,
Par desh prem aur samarpan ne dikhaya raasta saaf humara,
Sarhadon mein veer jawano ki kurbani hai amar,
Azadi ke is mahotsav par unhein yaad karte hain hamesha hum bazaar.

5.Dil mein hai jazba, har deshwasi ka ek hi,
Azadi ki baatien hain madhur, har lafz mein deshprem ki hai tehni,
Chalo saath milkar phir se vada karein,
Desh ki unnati aur samridhi ki ore ek saath badhein.

6.Dharti ka har kona, desh bhakti se jhoom uthe,
Azadi ke is utsav mein, hum sab milkar rang bharein,
Sapnon ki udaan ko hum saakaar karte hain,
Desh ki azadi ko yaad kar, hum bharatvasi khushi se naachtein hain.

7.Jhanda uncha rahe humara, aasmaan mein leharaye,
Dil se yaad karein veero ko, jinhone apni jaan qurbaan kiye,
Azaadi ke is tyohar par, hum sab ek saath gayein,
Desh ki shan, samman aur pragati ko fir se rangin banayein.

8.Sankalp liya tha un veero ne, desh ko azadi dilayi,
Dharti par phir se rang laayein, wo voh pal hain yaadgaar,
Aao milkar unhein salaam karein, jinhone desh ke liye kiya balidaan,
Azadi ke is mahotsav par, hum sab karein vandan.

9..Aao chalo hum saath, desh ka ek naya sapna sajayein,
Azadi ki raahon mein, hum aage badhein, naye ujale paayein,
Sabhi ko samaan hak mile, ek mazboot samaj banayein,
Azadi ki baatien hum phir se yaad karein.

10.Har kadam par rangin phool khilte hain,
Har dil mein ek jazba hai, desh prem se bhare,
Aaj fir se yaad karte hain woh azadi ke pal,
Desh ki unnati mein hum sab milkar sahyog karein.

 

shayari on independence day

Desh bhakti shayari 15 august

1. वतन की मित्ती में खुशबू बिखेरता हूँ,
वीरता के पर्व पर दिल में ये आग जगाता हूँ।
१५ अगस्त के दिन जब तिरंगा लहराएगा,
देशभक्ति की शायरी में ये जज्बा बयां करता हूँ।

2. आज़ादी की बेला, लहराए तिरंगा ऊँचा,
हर दिल में देशभक्ति का जज्बा बांधा।
खुदा की जुबां से बोलता हूँ ये बात,
भारत माता की जय बोलकर दुनिया को सजाता।

3. खुशियों का जहाँ, ग़मों का समंदर है,
वीर जवानों की मित्रता, एक ख़ास इज़हार है।
आज़ादी की महक, देश की गरिमा बढ़ाने को,
ये दिल से नफ़रत को मिटाने का विचार है।

4. वतन के लिए जान देने का इरादा,
तिरंगे की लहरों में छुपा जज्बा।
देशभक्ति की राहों में जो बलिदान है,
वो असली शूरवीरों का निशान है।

5. बुलंद आवाज़ों में गूंजता राष्ट्रगान,
वीर शहीदों की मित्रता की कहानी यहाँ।
ख़ुदा के लिए, वतन के लिए, सब कुछ त्यागा,
ये देशभक्ति की शायरी में एक अद्वितीय राग है।

6. लहराए तिरंगा ऊँचा गगन में आज,
देशभक्ति की शायरी से जुदा है यह वक्त।
वीरता के पर्व पर, दिल से कहता हूँ मैं,
हर दिल में बसा देश का प्यार, यही है मेरा संकल्प।

7. खुदा के लिए नहीं, बल्कि देश के लिए जीना,
वीर जवानों के बलिदान से अमर हो जाना।
आज़ादी की ख़ुशी में जब हो जाएं याद,
तिरंगे के रंगों में हम देशभक्ति का इज़हार करते जादूगर हो जाना।

8. देश की मित्रता, वीरता की कहानी,
वतन की ख़ुशबू में बसी हर ज़िंदगानी।
आज़ादी के दिन पर जब बजेगा राष्ट्रगान,
दिल में गर्व के फूल खिलाने का वचन है हमारा।

9. वतन के लिए हर कठिनाई को आसानी बनाता,
वीरता की बहादुरी ने हमें यह सिखाया।
आज़ादी की शाम, तिरंगे की लहरों में,
देशभक्ति की रौशनी को बढ़ाने का आलंब है।

10. देश के वीरों की शहादत का गीत गाती,
वतन की मित्ती में वीरता की बूंदें बिखेरती।
आज़ादी के महकते रंगों में हम,
देशभक्ति की मिसालों को नए ज़माने तक पहुँचाते हैं।

आपके दिल में जलते देशभक्ति के इस त्योहार में, ये शायरी आपके जज्बातों को स्पष्ट रूप से व्यक्त कर सकती है। जय हिंद!

 

independence day

Independence day shayari

1. आज़ादी की ख़ुशी में रंग बिखेरे,
दिल से दिल मिलकर गीत गाए फिरे।
खुले आसमान में तिरंगा लहराए,
देशभक्ति की रौंगते सबको सताए।

2. वतन के लिए जिस्म और जान कुर्बान,
आज़ादी की राह में न रुकेंगे हम।
उड़े जाएँगे देश के लिए आसमान,
शहीदों की यादें दिल में समाएंगे हम।

3. बिना ग़ुलामी के जिए वो अज़ादी,
खुदा की कसम, है ये भारत की शान।
हम उन्हें याद करते हैं हर वक़्त,
जिनके बलिदान ने दिल में बसा दी जवानी।

4. देशभक्ति की भावना दिल में बसी,
जाग उठा वीर भारतीय का दिल।
आज़ादी के गीत हर तरफ गूंजे,
देश के वीर जवानों का यही संकल्प हो सिलसिला।

5. तिरंगे की बुनाई से ख़ुशियाँ बिखरी,
हर दिल में बसी है वो आज़ादी की ख्वाहिश।
लहराए तिरंगा ऊँचा स्वर में,
हर दिल में गर्व और देशभक्ति की आवशियाँ।

6. आसमान में चमके तारे, देशभक्ति की बातें सुनाते हैं,
जब भी याद आती है आज़ादी, दिल में गर्व से आँसू आते हैं।

7. वतन के लिए जुनून, जज्बा दिल में हमारे,
आज़ादी के पर्व पर उठेंगे गीत और संगीत हमारे।

8. बस एक तिरंगे की चाहत, दिल में बसी हो जितनी आँधार,
हर दिन मनाएं आज़ादी को, न भूलें उन महान बलिदानों का प्यार।

9. आज़ादी की मिठास, देशभक्ति की लाज,
जब मिलकर रहेंगे सब मिलजुलकर, होगा यह त्योहार हमारा ख़ास।

10. वतन के लिए हर दिल में बसी एक दीवार,
आज़ादी के रंग में रंगी है हर यहाँ जवान और बालकवी की बस्ती की छाती।

 

Leave a comment